ब्रेकिंग
TEAM INDIA का नया कोच: मुख्य कोच पद के लिए द्रविड़ ने किया आवेदनप्रमोशन में रिजर्वेशन मामला: केंद्र और राज्य सरकारों की दलीलें पूरी, सुप्रीम कोर्ट ने सुरक्षित रखा फैसलाSiddharthnagar: बिजली के खंभे से गिरने पर विद्युत कर्मचारी की मौत, नाराज लोगों ने दिया धरनाAuraiya: राजा भैया ने किया रोड शो, विधानसभा चुनाव के लिए कार्यकर्ताओं में भरा जोशइस शहर को कहा जाता है विधवा महिलाओं की घाटीAgra: बच्चों से भरी वैन के गड्ढे में गिरने से हुआ हादसाJhansi: युवा मोर्चा की जिला झाँसी महानगर कार्यसमिति की बैठक हुई सम्पन्नHamirpur: NH34 पर अतिक्रमण हटाने पहुंची कंपनी, विधायक ने मांगी मोहलतAyodhya: पांचवे दीपोत्सव को भव्य बनाने के लिए अवध यूनिवर्सिटी में तैयारी शुरूEtah: 100 प्रतिशत टीकाकरण करवा कर ग्रामीणों ने की मिसाल कायम

कुछ कहूँ…….मंत्री जी का कुर्ता

दिनेश सिंह, गाजियाबाद

मंत्री जी के पास लोक कल्याण विभाग के साथ कई विभाग मंत्रिमंडल विस्तार में आ गए। सो हर विभाग के लिए अलग कुर्ता चाहिए । कारिंदों ने गोल मार्केट में बन्ने खाँ ट्रेलर का नाम सुझाया वह कुर्ते बनाने में बहुत मशहूर हैं। कुर्ते के मामले ने फरमान जारी हुआ। बन्ने खाँ हाजिर हुए ।

नाप तोल के बाद सुपुर्दगी के बाबत कहा गया मंत्री जी लखनऊ विभागीय दौरे के बाद कुर्ते को लेंगे । महीना बीता मंत्री हैं व्यस्त तो होना ही है फिर पूरे प्रदेश का विकास करना है हर ठेकेदार अधिकारी विश्वास पात्र होना चाहिए।बहुत सोच समझ कर सूझबूझ से ही गोपनीय विकास होता है।आखिर वह दिन आ ही गया जब नए कुर्ते का उद्घाटन होना था मंत्री जी खाए -नहाय फुलेल लगाकर जैसे ही कुर्ता धारण किए । यह क्या कुर्ता पेट पर चढ़ गया आगे बढ़ ही नहीं रहा। मंत्री जी ने बन्ने खां की तरफ आंख तरेरी, कि हुजूर ,आज तक के इतिहास में मेरा नाप कभी गलत नहीं हुआ । झट कारिंदा डपट कर बोला तो क्या मंत्री जी के पेट का विकास हो गया । बन्ने खां क्या कहते। गलती हुजूर, दोबारा नाप लेकर कुर्ता सिल देता हूं अबकी बार बन्ने खाँ एक- एक साइज लिख कर ले गये बड़े ही इत्मिनान से काटे -सिले ,कुर्ता तैयार कर मंत्री जी के पुश्तैनी मकान पर हाजिर हो ,दस्तक दी।अंदर से जबाब आया मंत्री जी फुर्सतगंज में नयी कोठी ले लिए हैं वहां जाओ ,मालकिन कोठी नंबर ,कुछ देर बाद जवाब मिला एम420 (जुगाड़ कोठी के बगल में) मरता क्या न करता बन्ने खाँ कुर्ते की पोटली दवायें 420 नंबर कोठी पूछतें- पांछते पहुंच गए । नौकर ने कहा मंत्री जी पूर्वांचल दौरे पर हैं परसों आना तभी हिसाब होगा। बन्ने खाँ आज 8:00 बजे ही हाजिर हो गए यह सोच कर कि इस बार मंत्री जी वाला झंझट समाप्त कर ,फिर किसी नेता के पचड़े में नहीं पड़ेंगे । ठीक 10:00 बजे कोठी में मंत्री जी की हलचल हुई।

कारिंदा बोला मंत्री जी उठ गए हैं। 12:00 बजे अब मुलाकात हो जाएगी। बन्ने किस्मत को दोष देते, किस मनहूस घड़ी में फंसाद ले लिया । दोपहर बाद मंत्री जी की सूचना पर बन्ने को अंदर बुलवाया गया ।बन्ने अर्धनग्न मंत्री को देख चकराया । यह क्या मंत्री जी तो चांद के माफिक तिल तिल बढ़ रहे हैं। साठ किलो के मंत्री एक कुंटल दस किलो हो गयें।पूरे पचास किलो का विकास।कुर्ता फिर छोटा होना ही था। लेकिन खौफ मंत्री जी का ,कुर्ता पहना गया ,परिणाम वही, जो होना था । कुर्ते ने पेड़ पकड़ आगे बढ़ने से मना कर दिया। घटना से हकलाए बन्ने ने कहा माई -बाप ,निगाहें बूढ़ी हो चली है अब काम नहीं करती । फीता शायद पेट से सरक गया । मंत्री जी बोले,धत्त लखनऊ में मंत्री निवास के बगल दारुल सफा में जैसा चाहो वैसा तैयार कुर्ता तुरंत पहन लो !अब मंत्री जी को कौन बताएं। कि मंत्री जी खुद स्माल से एक्स्ट्रा लार्ज हो गए हैं । अब इतनी भारी-भरकम योजनाओं के ताप को हजम करना इतना आसान नहीं। कहीं तो आयतन में परिवर्तन होगा।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities