ब्रेकिंग
इस शहर को कहा जाता है विधवा महिलाओं की घाटीAgra: बच्चों से भरी वैन के गड्ढे में गिरने से हुआ हादसाJhansi: युवा मोर्चा की जिला झाँसी महानगर कार्यसमिति की बैठक हुई सम्पन्नHamirpur: NH34 पर अतिक्रमण हटाने पहुंची कंपनी, विधायक ने मांगी मोहलतAyodhya: पांचवे दीपोत्सव को भव्य बनाने के लिए अवध यूनिवर्सिटी में तैयारी शुरूEtah: 100 प्रतिशत टीकाकरण करवा कर ग्रामीणों ने की मिसाल कायमMahoba: झाड़ियों में लावारिस पड़ा मिला नवजात शिशु, गांव में एक साल के अंदर यह दूसरी घटनाMahoba: सिंचाई विभाग का अजब कारनामा, मृतक किसानों के खिलाफ पुलिस को दी तहरीरएटा को मिली बड़ी सौगात, पीएम मोदी ने किया मेडिकल कॉलेज का लोकार्पणAgra: नए एसएससी सुधीर कुमार सिंह ने संभाला चार्ज, कहा अपराधियों पर कसेगा शिकंजा

मॉलिटिक्स से जुड़े शांतनु, उत्तर प्रदेश चुनावों में निभाएंगे बड़ी ज़िम्मेदारी!

20 साल से भी अधिक समय से देश के प्रतिष्ठित संस्थानों में वरिष्ठ पदों पर प्रबंधन की ज़िम्मेदारियों को निभाने वाले शांतनु शुक्ला मॉलीटिक्स इनफोमीडिया में शामिल हुए हैं। शांतनु मॉलिटिक्स में बतौर मुख्य परिचालन अधिकारी शामिल हुए हैं। आने वाले उत्तर प्रदेश चुनावों में कंपनी की ओर से चुनाव प्रबंधन की दृष्टि से वो महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वाहन करेंगे। शांतनु इससे पहले न्यूज़ 1 इंडिया के सीईओ के पद की ज़िम्मेदारी संभाल रहे थे।

ग़ौरतलव है कि मॉलिटिक्स इनफोमीडिया देश का पहला मोबाईल आधारित सामाजिक-राजनैतिक प्लेटफ़ॉर्म है। ‘लोकतंत्र को मज़बूत’ करने के उद्देश्य से काम कर रहे इस संस्थान ने इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए दो एप्लीकेशन विकसित किए हैं। मॉलिटिक्स और मॉलिटिक्स+

मॉलिटिक्स आम लोगों के लिए एंड्रॉयड प्ले स्टोर और एप्पल स्टोर पर उपलब्ध है। ये एक मीडिया एप्लीकेशन है, जिसपर राष्ट्रीय और राज्यवार समाचार, चुनाव परिणाम, नेताओं का विवरण, आम राय प्रकाशित होती हैं। लोगों के लिए एप्लीकेशन में डिस्कशन फ़ोरम का भी फ़ीचर है।

मॉलिटिक्स नेताओं के लिए कार्यवल प्रबंधन का कार्य करती है। यह एप्लीकेशन एंड्रॉयड प्ले स्टोर पर उपलब्ध है। इस एप्लीकेशन में मतदाता क्षेत्र की तमाम जानकारियां इकट्ठी की जा सकतीं हैं। एप्लीकेशन के ज़रिए नेता कार्यों का आवंटन कर सकते हैं और अपने कार्यवल की क्षमताओं का आंकलन कर सकते हैं। एप्लीकेशन के ज़रिए उन्हें अपने क्षेत्र के लोगों की वास्तविक समस्याओं को समझने और उनके निराकरण के बाद लोगों तक संदेश पहुंचाने में मदद मिलती है। फ़िलहाल कांग्रेस, बीजेपी, आम आदमी पार्टी, समाजवादी पार्टी समेत अन्य कई दलों के लगभग 400 से अधिक नेता इस एप्लीकेशन का प्रयोग कर रहे हैं।

ज़ाहिर है कि मॉलिटिक्स के ये दो प्लेटफ़ॉर्म नेता को जनता और जनता को नेता के क़रीब लाते हैं और इस तरह ‘लोकतंत्र को मज़बूत करने’ के उद्देश्य वाक्य की तरफ संस्थान बढ़ रहा है। शांतनु शुक्ला का मॉलिटिक्स में शामिल होना इस गति में वृद्धि की संभावनाओं को जन्म देता है।

Related posts

1 comment

Astitva News September 3, 2021 at 5:23 pm

good

Reply

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities