ब्रेकिंग
Auraiya: सवारियों से भरी बस खाई में गिरी, 20 यात्री हुए घायलAgra: बेटों ने नहीं दिया सम्मान तो पिता ने संपत्ति की डीएम के नामHamipur: हाईवे पर हुई दो दुर्घटनाएं, तीन लोग हुए घायलHamirpur: ट्रक ने बाइक सवार पिता-पुत्र को रौंदा, मौके पर हुई मौतHamirpur: विधानसभा चुनाव की तैयारियां शुरु, जनपद को नौ जोन और 42 सेक्टर में बांटा गयामहोबा दौरे पर प्रियंका गांधी, प्रतिज्ञा रैली को करेंगी सम्बोधितHamirpur: शहर के बीच जेल तालाब में आग लगने से हड़कंप, बड़ा हादसा टलाJaunpur: पुलिस चौकी में घुसा ट्रक, हादसे में 1 की मौत, एक पुलिसकर्मी घायलडेस्टिनेशन वेडिंग के लिए ये हैं सबसे पॉपुलर स्थानकानपुर आईआईटी में संयुक्त सचिव डॉ मीनाक्षी जोली ने की प्रेस वार्ता

Sitapur: सभासदों ने अधिशासी अधिकारी के खिलाफ खोला मोर्चा, सामूहिक इस्तीफे की दी धमकी

सीतापुर/ अजय सिंह

जनपद सीतापुर की हरगांव नगर पंचायत ने नगर को कुल 2404 शहरी आवास दिए हैं। जिनमें 376 आवास जांच हेतु तहसील प्रशासन को दिए गए। तो वहीं 749 आवासों की सूची डूडा विभाग द्वारा अधिशासी अधिकारी को दी गयी। जिसके जवाब में अधिशासी अधिकारी ने सूची की जाँच करवाने की बात कही जिस पर बौखलाए सभासदों ने अधिशासी अधिकारी पर जबरन दबाव बनाते हुए सूची को बिना जाँच किये पास करने का दबाव बनाया।

इतने में ही अधिशासी अधिकारी अरविंद सिंह ने साफ तौर पर कह दिया कि बिना जाँच किए कोई भी आवास की सूची हम पास नहीं करेंगें। जिससे बौखलाए नगर के लगभग 14 सभासदों ने जिनमें से मुख्य रूप से सुभाष जोशी, जगन्नाथ, संजीव गुप्ता जो कि सभासद प्रतिनिधि बताये जाते हैं। इनके द्वारा अधिशासी अभियंता को बिना बताए बोर्ड की मीटिंग आपात में बुला ली गई। जिसमें विभिन्न प्रकार की बातों का जिक्र हुआ। यह बैठक 29 अक्टूबर को होनी थी लेकिन कुछ सभासद प्रतिनिधियों ने अपनी कूटनीति के चलते जबरन अभिलेखों पर सभासद से हस्ताक्षर करवा लिए, अगर बोर्ड मीटिंग की बात करें तो नियमानुसार किसी भी विभाग की बोर्ड मीटिंग किसी भी प्रसाशनिक अधिकारी के बिना नहीं हो सकती । वहीं इस संबंध में अधिशासी अधिकारी अरविंद सिंह से बात की गई तो उन्होंने बताया कि उक्त सभासद प्रतिनिधियों द्वारा धमकी दी गई कि आवासों की सूची बिना जाँच कराये पास कर दी जाए। ऐसा नहीं करने पर सभी सभासदों ने सामूहिक इस्तीफे की धमकी दी। अभी तक फिलहाल अधिशासी अधिकारी द्वारा उच्च अधिकारियों को मामले में सूचित नहीं किया गया है।

इस संबंध में जब नगर पंचायत अध्यक्ष से बातचीत की गई। तो उन्होंने बताया कि सभासदों ने हमको अपना सामूहिक इस्तीफा दिया है। जिसमें की अधिशासी अभियंता पर आरोप है कि नगर में विकास कार्य न करने और बिजली की समस्या को लेकर इस्तीफा दिया है। अधिशासी अधिकारी पर काम में लापरवाली करने के भी आरोप लगाए गये हैं। अध्यक्ष ने कहा कि गम्भीरता से विचार करके कार्यों को गुणवत्ता पूर्वक करवा देते तो आज बैठक बुलाकर इस्तीफे की बात न होती। इस सम्बंध काजी टोला सभासद रिहाना बानो से बात की गई तो वह अधिशासी अधिकारी को लेकर कोई भी जवाब नही दे पाई जिससे साफ हो गया कि कही न कही पर सभासदों का अधिशासी अधिकारी पर आरोप संन्दिग्ध पाया जा सकता है

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities