ब्रेकिंग
Siddharthnagar: भाकियू ने केंद्रिय मंत्री अजय मिश्रा को हटाने के विरोध में जाम किया रेलवे ट्रैकHamirpur: किसानों के रेल रोको आंदोलन को लेकर प्रशासन अलर्ट, तैनात की गई जीआरपी और पुलिसAuraiya: किसान यूनियन द्वारा रेल रोकने के मामले में पुलिस प्रशासन सख्तUnnao: किसानों की ओर से रेल रोको आंदोलन का आह्वान, पुलिस और प्रशासनिक टीमें अलर्टHamirpur: आकाशीय बिजली गिरने से बेटे की मौत, मां की हालत गंभीरAgra: किसान आंदोलन के मद्देनजर रेलवे स्टेशन पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजामAgra: युवक के ऊपर टूट कर गिरा बिजली का तार, करंट लगने से युवक की मौतJhansi: रजत पदक विजेता शैली सिंह का गुरु पद्मश्री अंजु बॉबी जार्ज के साथ हुआ भव्य सम्मानआगरा: सरकारी हैडपम्प पर दो पक्षों में हुआ विवाद, दबंगों ने युवती को जमकर पीटाAgra: एक्टिव मोड दिखी BSP, बसपाई ने दिया कार्यकर्ताओं को जीत का मंत्र

स्कूल बना स्वीमिंग पूल, हेड मास्टर ने प्रधान को दोषी ठहराया

मनोज चहर/मथुरा

स्कूल का काम बच्चों को शिक्षा देना है लेकिन जब विद्यालय ही तालाब बन जाए बच्चे उसमें शिक्षा की जगह तैराकी प्रतियोगिता में संलग्न हो जाएं तो समझिए इस नाकामी का जिम्मेदार कोई तो होगा ।
ऐसा ही एक मामला मथुरा जिले के शेरगढ़ इलाके स्थित जंघावली स्कूल का है जहां पर हालिया बारिश में भारी जलजमाव हो गया । विद्यालय परिसर में लगभग 2से 3 फीट पानी भर गया है जिससे शिक्षण कार्य अवरुद्ध हुआ। यदपि बच्चों का स्वभाव होता है खेलकूद करना । उनके स्वभाव में है।

तो आप देख सकते हैं कि बालक किस तरह से विद्यालय की छत के ऊपर से पानी में छलांग लगा रहे हैं ।शुक्र है कि अभी कोई दुर्घटना नहीं घटी है। लेकिन इसकी आशंका बनी हुई है। इस संबंध में विद्यालय के प्रधानाध्यापक ने ग्राम प्रधान एवं सचिव को जिम्मेदार ठहराया है उनका कहना है इस विषम परिस्थिति के लिए एकमात्र जिम्मेदार ग्राम प्रधान हैं। उनसे हम सभी शिक्षक गण बार-बार प्रयास करते रहे अनुरोध करते रहे ,लेकिन उन्होंने इस तरफ कोई ध्यान नहीं दिया जिसकी वजह से शिक्षण कार्य बाधित हो रहा है । इस भारी जलजमाव से इसमें मच्छरों एवं बरसाती रोग जनित जीवाणु पैदा हो रहे हैं जिसकी वजह से बच्चों को एवं बुजुर्गों को बचाना मुश्किल होगा। इसके बारे में शासन प्रशासन को भी कई बार अवगत कराया गया लेकिन क्योंकि विकास का अंतिम बिंदु प्रधान होता है जब प्रधान ही उदासीन हो, तो विद्यालय का कैसे उद्धार होगा। ग्रामीणों का आरोप है की विद्यालय परिसर में हुए जलजमाव से हम लोगों के भी घरों की दीवारे कमजोर हो रही हैं। शिकायत के बाद भी प्रशासन उदासीन है

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities