ब्रेकिंग
अयोध्या का किन्नर समाज गरीबों की सहायता करने में तत्परAuraiya: बदमाशों ने की ताबड़तोड़ फायरिंग, अधेड़ हुआ घायलAuraiya: सवारियों से भरी बस खाई में गिरी, 20 यात्री हुए घायलAgra: बेटों ने नहीं दिया सम्मान तो पिता ने संपत्ति की डीएम के नामHamipur: हाईवे पर हुई दो दुर्घटनाएं, तीन लोग हुए घायलHamirpur: ट्रक ने बाइक सवार पिता-पुत्र को रौंदा, मौके पर हुई मौतHamirpur: विधानसभा चुनाव की तैयारियां शुरु, जनपद को नौ जोन और 42 सेक्टर में बांटा गयामहोबा दौरे पर प्रियंका गांधी, प्रतिज्ञा रैली को करेंगी सम्बोधितHamirpur: शहर के बीच जेल तालाब में आग लगने से हड़कंप, बड़ा हादसा टलाJaunpur: पुलिस चौकी में घुसा ट्रक, हादसे में 1 की मौत, एक पुलिसकर्मी घायल

नये बैक्‍टीरिया की हुई खोज, पौधों में पानी के उपयोग को करेगा नियंत्रित

कृषि विज्ञानियों ने एक ऐसे बैक्‍टीरिया की खोज की है। जो पौधों में पानी के उपयोग को नियंत्रित करेगा। अभी तक खेतों की सिंचाई करने में ज्यादा पानी का इस्तेमाल होता है। जिससे कम सिंचाई वाले क्षेत्रों में फसलों का उत्‍पादन भी प्रभावित होता है। हमारे पास खेतों में ज्यादा पानी को नियंत्रित करने के लिए में कोई उपाय नहीं था। जिसको देखते हुए इस बैक्‍टीरिया की खोज की गई है। आपको बता दें कि इस बैक्‍टीरिया का प्रयोग होने से बीजों के उपचार होने से खेतों में नमी बनी रहेगी। साथ ही गेहूं और सरसों के खेतों में सिंचाई पर भी कम ध्‍यान देना पड़ेगा। इसके इस्तेमाल से किसानों की खेती में लागत भी बहुत कम हो सकती है।

वैज्ञानिकों ने एक ऐसे जीवाणु को खोजा है जो कृषि क्षेत्र में ऊर्जा, जल और अर्थ प्रबंधन में परिवर्तन करेगा। इस बैक्टीरिया से गेहूं और सरसों के बीज को उपचारित कर बोआई करने के बाद उन्हें यह इतनी शक्ति प्रदान कर देता है कि सरसों को महज नमी मिलती रहे तो सिंचाई करने की जरूरत ही नहीं पड़ेगी। साथ ही गेहूं की फसल को तीन की जगह दो सिंचाई की आवश्यकता पड़ेगी। इसके द्वारा सिंचाई का खर्च कम होगा और ईंधन (डीजल-बिजली) की भी बचत होगी। अब इस बैक्टीरिया के उपयोग से सूखाग्रस्त क्षेत्रों में फसल उगाने की तकनीक पर काम किया जा रहा है। इस बैक्टीरिया से सिचाईं में उपयोग किया जा रहा पीने योग्य बहुमूल्य पानी भी बचाया जा सकेगा। यह बैक्टीरिया उच्च लवण सांद्रता वाले क्षेत्रों से प्राप्त किया गया है।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities