ब्रेकिंग
TEAM INDIA का नया कोच: मुख्य कोच पद के लिए द्रविड़ ने किया आवेदनप्रमोशन में रिजर्वेशन मामला: केंद्र और राज्य सरकारों की दलीलें पूरी, सुप्रीम कोर्ट ने सुरक्षित रखा फैसलाSiddharthnagar: बिजली के खंभे से गिरने पर विद्युत कर्मचारी की मौत, नाराज लोगों ने दिया धरनाAuraiya: राजा भैया ने किया रोड शो, विधानसभा चुनाव के लिए कार्यकर्ताओं में भरा जोशइस शहर को कहा जाता है विधवा महिलाओं की घाटीAgra: बच्चों से भरी वैन के गड्ढे में गिरने से हुआ हादसाJhansi: युवा मोर्चा की जिला झाँसी महानगर कार्यसमिति की बैठक हुई सम्पन्नHamirpur: NH34 पर अतिक्रमण हटाने पहुंची कंपनी, विधायक ने मांगी मोहलतAyodhya: पांचवे दीपोत्सव को भव्य बनाने के लिए अवध यूनिवर्सिटी में तैयारी शुरूEtah: 100 प्रतिशत टीकाकरण करवा कर ग्रामीणों ने की मिसाल कायम

सब्जियों और पौधों की बीमारी बताएगा अल्ट्रामाइक्रोटॉम टेस्टिंग मशीन

हिमाचल प्रदेश के किसानों और बागवानों को उनके उपजों में लग रही बीमारियों का अब बहुत जल्द पता चल सकेगा। इस दौरान उद्यानिकी एवं वानिकी विश्वविद्यालय नौणी ने इसके लिए 2.63 करोड़ से जर्मनी की अल्ट्रामाइक्रोटॉम टेस्टिंग मशीन बनाई है। प्रदेश में इस प्रकार की यह पहली आधुनिकतम मशीन है। सब्जियां, फूल,फल, सेब और अन्य पौध के अतिरिक्त गेहूं और मक्का की फसलों में लगने वाली बीमारियों का यह मशीन एक घंटे में पता लगा देगी। बागवान- किसान अपने उत्पादों का खराब होने से पहले इसका इलाज कर पाएंगे। 

प्रदेश में किसान अनेक तरह के फल और सब्जियां उगाते हैं। नई तकनीक के अभाव में पहले फल-सब्जियों की बीमारी का बहुत दिनों के बाद पता चलता था। इससे किसानों को बहुत नुकसान होता था। इस परेशानी से निपटने के लिए विश्व बैंक पोषित हिमाचल प्रदेश बागवानी विकास परियोजना के तहत नौणी विवि में अल्ट्रामाइक्रोटॉम मशीन जर्मनी से 2.63 करोड़ रुपये में खरीदी है। इसे विवि के प्लांट पैथोलॉजी विभाग में स्थित किया गया है। यह मशीन फाइटोप्लाज्म जैसे रोगजनकों के फ्लोरोसेंट माइक्रोस्कोपी में अन्वेषण के लिए बहुत महत्व रखती है। इस मशीन में सेब में भी पैथोजन से फैलने वाले बीमारियों को जांचा जाएगा।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities