ब्रेकिंग
Panchang: आज का पंचांग 25 जून 2022, जानें शुभ मुहूर्त और राहुकाल का समयPanchang: आज का पंचांग 24 जून 2022, जानें शुभ मुहूर्त और राहुकाल का समयPanchang: आज का पंचांग 23 जून 2022, जानें शुभ मुहूर्त और राहुकाल का समयकानपुर हिंसा का पाकिस्तान कनेक्शन आया सामने, सर्विलांस पर लगे मोबाइलों से हुआ बड़ा खुलासाबाँदा में प्राधिकरण और निबंधन की मिलीभगत से प्लाटिंग के नाम पर हो रही है खुली डकैती ,आप भी हो जाइए सावधान!Panchang: आज का पंचांग 22 जून 2022, जानें शुभ मुहूर्त और राहुकाल का समयशिवसेना में लगातार बढ़ रही है बागी विधायकों की संख्या, अब तक 42 MLA ने ठाकरे के खिलाफ मोर्चा खोलाऑटो रिक्शा चलाने और रिवॉल्वर-पिस्टल रखने वाले इस नेता ने ठाकरे को दी चुनौती, महाराष्ट्र की महा विकास आघाडी सरकार गिरने की शुरू हुई उल्टी गिनतीएक ‘महिला मस्साब’ कैसे चुनीं गईं एनडीए के राष्ट्रपति की उम्मीदवार, पीएम नरेंद्र मोदी ने इन बड़े नामों के बजाए द्रौपदी पर क्यों लगाया दांवअंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर सीएम योगी का दिखा अनोखा अंदाज, तस्वीरों में देखें कैसे दिया स्वस्थ जीवन का संदेश

Unnao: गौशाला बनी मौतशाला, लगभग एक दर्जन गौवंशी की मौत, प्रशासन मौन

निशानाथ पाण्डेय, उन्नाव

Unnao: जहां एक तरफ सरकार गौवंश को लेकर तमाम योजनाएं चला रही हैं तो वहीं दूसरी तरफ गायों की लगातार हत्यायें हो रही हैं. ऐसा ही एक चौंका देने वाला मामला उन्नाव से सामने आया है। यहां पर गोवंश को संरक्षण देने की सरकार की मंशा को मातहत जमकर पलीता लगा रहे हैं। आलम यह है कि उन्नाव नगर पालिका की गौशाला में लगभग एक दर्जन गोवंशियों की मौत हो गई है। आधा दर्जन से अधिक गोवंश बीमार हालत हैं।

उन्नाव नगर पालिका की गदन खेड़ा स्थित गौशाला में लगभग एक सैकड़ा गोवंश हैं। सरकार ने साफ निर्देश दे रखे हैं कि गौवंश को सर्दी से बचाने के लिए सभी पुख्ता इंतजाम किए जाय, मगर यहां गौशाला में गोवंश को सर्दी से बचाने के कोई इंतजाम नहीं दिखाई पड़ रहे हैं। यहां पर चारा पानी की भी मुकम्मल व्यवस्था नहीं दिख रही है। जिसके चलते गौशाला के अंदर लगभग एक दर्जन गौवंशी की मौत हो गई। लगभग आधा दर्जन गांव वंश बीमार हालत में अभी भी तड़प रहे हैं। गौशाला की स्थिति इतनी नरकीय है कि गौशाला का निरिक्षण करने आए अफसर गेट के अंदर जाने की हिम्मत नहीं जुटा पाए। पशु विभाग से जुड़े अफसर तो गौशाला के अंदर तक गए, मगर एडीएम गौशाला के गेट तक आए और गेट से ही वापस लौट गए।

सूत्रों के अनुसार, आज सुबह पशु विभाग के अधिकारी यहां पर आएं और उन्होंने मवेशियों के बारे में जानकारी ली. अभी यह नहीं कहा जा सकता है कि कितने मवेशियों की मौत हुई है। कुछ की संभवत मौत हुई है और कुछ का उपचार चल रहा है। गौशाला में चारा पानी से लेकर सर्दी से बचाव के भी इंतजाम किए गए हैं। तिरपाल लगा लगा हुआ है। अलाव की भी व्यवस्था की गई है। गो आश्रय स्थल थोड़ा नीचे है। पिछले दिनों लगातार हो रही बारिश से भी यहां जलजमाव की स्थिति बनी। इसलिए थोड़ी असहज स्थितियां उत्पन्न हुई। भविष्य में कोशिश की जा रही है कि इस तरह की घटना की पुनरावृत्ति ना हो।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities