ब्रेकिंग
Siddharthnagar: भाकियू ने केंद्रिय मंत्री अजय मिश्रा को हटाने के विरोध में जाम किया रेलवे ट्रैकHamirpur: किसानों के रेल रोको आंदोलन को लेकर प्रशासन अलर्ट, तैनात की गई जीआरपी और पुलिसAuraiya: किसान यूनियन द्वारा रेल रोकने के मामले में पुलिस प्रशासन सख्तUnnao: किसानों की ओर से रेल रोको आंदोलन का आह्वान, पुलिस और प्रशासनिक टीमें अलर्टHamirpur: आकाशीय बिजली गिरने से बेटे की मौत, मां की हालत गंभीरAgra: किसान आंदोलन के मद्देनजर रेलवे स्टेशन पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजामAgra: युवक के ऊपर टूट कर गिरा बिजली का तार, करंट लगने से युवक की मौतJhansi: रजत पदक विजेता शैली सिंह का गुरु पद्मश्री अंजु बॉबी जार्ज के साथ हुआ भव्य सम्मानआगरा: सरकारी हैडपम्प पर दो पक्षों में हुआ विवाद, दबंगों ने युवती को जमकर पीटाAgra: एक्टिव मोड दिखी BSP, बसपाई ने दिया कार्यकर्ताओं को जीत का मंत्र

Unnao: पुलिस ने किया चोर गिरोह का खुलासा, लेकिन पुलिस की थ्योरी पर खड़े हुए सवाल

निशानाथ पांडे, उन्नाव

उन्नाव पुलिस ने जिले में सक्रिय एक बड़े चोर गिरोह का खुलासा किया है. दरअसल, पुलिस ने 8 सितंबर से जिले में चोरों की धर पकड़ के लिए अभियान चलाया हुआ है. इसी के तहत स्वाट टीम के साथ सदर कोतवाली पुलिस ने मिलकर एक बड़े चोर गिरोह का पर्दाफाश किया है. इस अभियान में पुलिस ने आठ लोगों की गिरफ्तारी के साथ एल्युमिनियम की सिल्लियां, असलहे और कारतूस के साथ एक लोडर और करीब 50 हजार की नगदी भी बरामद की है. सीओ नगर कृपा शंकर ने बताया कि 12 सितंबर को मुखबिर से मिली सूचना पर पुलिस की संयुक्त टीम ने मगरवारा रेलवे स्टेशन के पास खण्डहर से चोरों के गैंग को दबोचा. चोरों ने शहर और आसपास की कई जगहों से चोरियां करने की बात स्वीकार की है.

पुलिस ने इन चोरों की गिरफ्तारी के पीछे जो थ्योरी बनाई है. अब उस पर ही सवाल खड़े होने लगे है. दरअसल, आरोप है कि पुलिस जिस चोर गिरोह की गिरफ्तारी का दावा कर रही है. उनमें से कबाड़ का काम करने वाले रईश, आकाश गुप्ता समेत 4 आरोपियों को पुलिस ने अलग अलग जगह से गिरफ्तार किया गया है. जबकि तीन अन्य उसके अगले दिन उठाए गए थे. और एक कि गिरफ्तारी के लिए मिर्जा फैक्ट्री गेट पर स्वाट टीम लगी थी. तो फिर इतने दिनों तक सभी को पुलिस ने कहां रखा. साथ ही खंडहर से माल समेत चोरों की गिरफ्तारी की थ्योरी भी किसी के गले नहीं उतर रही. इस चोर गैंग की गिरफ्तारी में मुख्य रूप से जो माल बरामद दिखाया गया है. वो बीती 1 अगस्त को एक फैब्रिक फैक्ट्री से चोरी हुआ था. अब सवाल ये उठता है कि जो माल 1 अगस्त को चोरी हुआ वो कबाड़ी के पास से एलमयूनियम गलाने वाली फैक्ट्री तक पहुंच गया. ऐसे में सवाल ये उठता है कि ये माल वापस चोरों तक कैसे पहुंचा. इन्ही सब बातों से पुलिस की थ्योरी पर सवाल खड़े हो रहे हैं. अब सवाल ये है कि क्या पुलिस गुड वर्क दिखाने के लिए मन गडंथ कहानी बना रही है.

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities