Notice: Undefined property: AIOSEO\Plugin\Common\Models\Post::$options in /home/customer/www/astitvanews.com/public_html/wp-content/plugins/all-in-one-seo-pack/app/Common/Models/Post.php on line 104
dir="ltr" lang="en-US" prefix="og: https://ogp.me/ns#" > Congress big strategy for Lok Sabha elections 2024 : कांग्रेसी तिलिस्म से अब खत्म होगा बीजेपी का दबदबा, पंजे के ये 7 सिपहसालार भेदेंगे ‘भगवाधारियों’ का किला - Astitva News
बड़ी ख़बरें
कौन है वो Nukush Fatima जिसकी एक गुहार में Cm Yogi ने प्रशासन की लगा दी क्लास और 24 घंटे में वो कर दिया जो 20 सालों में नही हो पाया !अब फातिमा का परिवार Yogi को दे रहा है दुआएं !आज पूरा देश #RohiniAcharyaको कर रहा है सलाम,Lalu की बेटी ने अपनी किडनी देकर पिता को दी नई जान !Gujrat के बेटे ने बदल दी सियासी बाजी ,सातवीं बार फिर गुजरात में खिलेगा कमल Congress के बयानवीरों ने फिर डुबोई कांग्रेस की लुटिया !Irfan Solanki News : कानून के शिकंजे से घबराए इरफान सोलंकी ने भाई समेत किया सरेंडर, पुलिस कमिश्नर आवास के बाहर फूट-फूट कर रहे विधायक, जानें किन धाराओं में दर्ज है FIRPM Modi Roadshow : गुजरात विधानसभा चुनाव में प्रचंड मतदान के बाद पीएम नरेंद्र मोदी का मेगा रोड शो, 3 घंटे में 50 किमी से अधिक की दूरी के साथ ‘नमो’ का विपक्ष पर ‘हल्लाबोल’‘बाहुबली’ पायल भाटी ने ‘बदलापुर’ के लिए रची हैरतअंगेज कहानी, हेमा का कत्ल करने के बाद पुलिस से इस तरह बचती रही बडपुरा गांव की ‘किलर लेडी’Gujarat Assembly Election 2022 : गुजरात में है आजाद भारत का ऐसा पोलिंग बूथ, जहां सिर्फ एक वोटर जो 500 शेरों के बीच करता वोट, लोकतंत्र के त्योहार की बड़ी दिलचस्प है स्टोरीगुजरात में किस दल की बनेगी ‘सरकार’ को लेकर जारी है मदतान, रवींद्र जडेजा की पत्नी समेत इन 10 दिग्गज चेहरों के साथ मोरबी हादसे में नायक बनकर उभरे इस नेता पर सबकी नजरGujarat Assembly Election : गुजरात में भी है मिनी अफ्रीका, जहां पहली बार मतदान कर रहे मतदाता, बड़ी दिलचस्प है यहां की गाथाGujrat Election 2022: योगी मॉडल का गुजरात में बज रहा है डंका . Modi के बाद Yogi की सबसे ज्यादा डिमांड

Congress big strategy for Lok Sabha elections 2024 : कांग्रेसी तिलिस्म से अब खत्म होगा बीजेपी का दबदबा, पंजे के ये 7 सिपहसालार भेदेंगे ‘भगवाधारियों’ का किला

लखनऊ। नई दिल्ली। एक तरफ जहां राहुल गांधी देश भर में भारत जोड़ो यात्रा के जरिए कांग्रेस में जान फूंकने की कोशिश में जुटे हैं तो वहीं दूसरी तरफ पार्टी अपने केंद्रीय संगठन को मजबूत करने के लिए मल्लिकार्जुन खरगे को चेहरा बनाने जा रही है। जबकि देश के सबसे बड़े सूबे उत्तर प्रदेश को लेकर की बीएफ कांग्रेस ने बड़ा प्लान आफ एक्शन तैयार किया है। कांग्रेस ने बीजेपी और समाजवादी पार्टी से लड़ने के लिए अपने 7 सिपहसालारों की तैनाती की हैं।

2024 को लेकर शुरू हुई लड़ाई
कांग्रेस पार्टी 2024 की सियासी जंग को लेकर कमर कस चुकी है। गांधी परिवार के बजाए अब पार्टी की बागडोर दूसरे नेता के हाथों में होगी। पार्टी के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष 80 वर्षीय मल्लिकार्जुन खरगे हो सकते हैं। वहीं कांग्रेस के उदयपुर मंथन में तय हुई योजनाओं को अमल में लाने की कोशिश भी शुरू हो गई है। पार्टी की तय योजना के मुताबिक राज्यों में माइक्रो स्तर पर संगठन को मजबूत करने का पूरा खाका तैयार करने की योजना बनाई गई थी। इसी की पहल करते हुए उत्तर प्रदेश कांग्रेस में पहली बार प्रांतीय अध्यक्षों का चयन किया गया है। कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश को छह अलग-अलग जोन में बांटा है। जिसमें, पूर्वांचल, अवध ,प्रयाग, बुंदेलखंड , ब्रज और पश्चिम जोन है। हर जोन के अध्यक्ष जातीय समीकरणों के हिसाब से अध्यक्ष बनाए गए हैं।

बृजलाल खाबरी बने कांग्रेस यूपी के नए चीफ
राष्ट्रीय अध्यक्ष के तौर पर दलित चेहरे को आगे करने के बाद अब कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश में भी दलित कार्ड खेल दिया है। पार्टी ने उत्तर प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष के तौर पर बृजलाल खाबरी को नई जिम्मेदारी दी है। बसपा के कैडर माने जाने वाले और कांशीराम के सहयोगी रहे बुंदेलखंड के बड़े दलित नेता बृजलाल खाबरी को प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने के पीछे कांग्रेस की बड़ी सोची समझी रणनीति है। कांग्रेस का मानना है कि बीएसपी से बड़े पैमाने पर वोट खिसक कर बीजेपी के पाले में चला गया है। ऐसे में दलित प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से पार्टी को चुनाव में बड़ा फाएदा मिल सकता है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पीएल पुनिया कहते हैं कि बृजलाल खाबरी को प्रदेश अध्यक्ष बनाने से सिर्फ उत्तर प्रदेश ही नहीं बल्कि प्रदेश में कांग्रेस पार्टी की एक अलग छवि उभर कर सामने आएगी।

इन्हें मिली पुर्वांचल-प्रयाग की जिम्मेदारी
महराजगंज के फरेंदा विधायक विरेंद्र चौधरी को पूर्वांचल के ज़िलों का कार्यभार दिया गया है। ख़ासतौर पर फ़ैज़ाबाद, अंबेडकरनगर, बस्ती, महराजगंज, सिद्धार्थनगर, कुशीनगर में कुर्मी जाति को जोड़ने का दारोमदार होगा। प्रयाग ज़ोन में पूर्व मंत्री अजय राय को ज़िम्मेदारी मिलेगी। भूमिहार जाति से आने वाले अजय राय के माध्यम से पार्टी ने इस समुदाय में अपनी पकड़ मजबूत कर चुनावी मैदान में उतारने की योजना बनाई है।

अवध-बुंदेलखंड के ये होंगे खेवनहार
अवध और बुंदेलखंड ज़ोनों में प्रांतीय अध्यक्षों की ज़िम्मेदारी पूर्व मंत्री नकुल दुबे और योगेश दीक्षित को दी गई है। दुबे के ऊपर ब्राह्मण वोटरों को अपने साथ रखने का दारोमदार होगा और बुंदेलखंड में योगेश दीक्षित के माध्यम से ब्राह्मण वोटों को अपने साथ जोड़ने की पूरी तैयारी की गई है। क्योंकि कांग्रेस के नवनियुक्त अध्यक्ष खाबरी भी बुंदेलखंड से ही आते हैं, ऐसे में ब्राह्मण और दलितों के कांबिनेशन से चुनावी राह को आसान करने की कोशिश की गई है।

पश्चिम-ब्रज का ये देखेंगे काम
पश्चिम में प्रांतीय अध्यक्ष के बतौर नसीमुद्दीन सिद्दीक़ी को नियुक्त किया जाएगा। वहीं ब्रज में यादव लैंड से इटावा के नेता अनिल यादव को ज़िम्मेदारी दी जाएगी। पार्टी के नेताओं के मुताबिक उदयपुर के चिंतन शिविर के बाद ही यह तय हो गया था कि पार्टी माइक्रो लेवल पर प्रदेश में अपना संगठन मजबूत करेगी। योजना के मुताबिक जल्द ही कांग्रेस ग्रामीण और बूथ स्तर पर भी जातिगत समीकरणों और क्षेत्रीय समीकरणों को साधते हुए युवा नेतृत्व को जिम्मेदारी देगी।

 

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities