बड़ी ख़बरें
एक दुनिया का सबसे बड़ा ग्लोबल लीडर तो दूसरा देश का सबसे पॉपुलर पॉलिटिशियन, पर दोनों ‘आदिशक्ति’ के भक्त और 9 दिन बिना अन्न ‘दुर्गा’ की करते हैं उपासना, जानें पिछले 45 वर्षों की कठिन तपस्या के पीछे का रहस्यअब सिल्वर स्क्रीन पर दिखाई देगी निरहुआ के असल जिंदगी के अलावा उनकी रियल लव स्टोरी की ‘एबीसीडी’, शादी में गाने-बजाने वाला कैसे बना भोजपुरी फिल्मों का सुपरस्टार के साथ राजनीति का सबसे बड़ा खिलाड़ीटीचर की पिटाई से छात्र की मौत के चलते उग्र भीड़ ने पुलिस पर पथराव के साथ जीप और वाहनों में लगाई आग, अखिलेश के बाद रावण की आहट से चप्पे-चप्पे पर फोर्स तैनातकुंवारे युवक हो जाएं सावधान आपके शहर में गैंग के साथ एंट्री कर चुकी है लुटेरी दुल्हन, शादी के छह दिन के बाद दूल्हे के घर से लाखों के जेवरात-नकदी लेकर प्रियंका चौहान हुई फरारअपने ही बेटे के बच्चे की मां बनने जा रही ये महिला, दादी के बजाए पोती या पौत्र कहेगा अम्मा, हैरान कर देगी MOTHER  एंड SON की 2022 वाली  LOVE STORYY आस्ट्रेलिया के खिलाफ धमाकेदार जीत के बाद भी कैप्टन रोहित शर्मा की टेंशन बरकरार, टी-20 वर्ल्ड कप से पहले हार्दिक पांड्या, भुवनेश्वर कुमार समेत ये क्रिकेटर टीम इंडिया से बाहरShardiya Navratri 2022 : अकबर और अंग्रेजों ने किया था मां ज्वालाजी की पवित्र ज्योतियां बुझाने का प्रयास, माता रानी के चमत्कार से मुगल शासक और ब्रिटिश कलेक्टर का चकनाचूर हो गया था घमंडबीजेपी नेता का बेटे वंश घर पर अदा करता था नमाज, जानिए कापी के हर पन्ने पर क्यों लिखता था अल्हा-हू-अकबर17 माह तक एक कमरे में पति की लाश के साथ रही पत्नी, बड़ी दिलचस्प है विमलेश और मिताली के मिलन की लव स्टोरी‘शर्मा जी’ ने महेंद्र सिंह धोनी के 15 साल पहले लिए गए एक फैसले का खोला राज, 22 गज की पिच पर चल गया माही का जादू और पाकिस्तान को हराकर भारत ने जीता पहला टी-20 वर्ल्ड कप

Happy Janmashtami 2022 : इस्कान से लेकर जेके मंदिर में कान्हा के जयकारों की गूंज, घर-घर सजी मनोहारी झांकियों से पूरा शहर कृष्ण भक्ति में सराबोर

कानपुर। श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का पर्व पूरे देश में धूम-धाम के साथ मनाया जा रहा है। कानपुर नगर वृदंवन की तरह नजर आ रहा है। मैनावती मार्ग स्थित इस्कान मंदिर में भगवान के जन्म से बाल्यकाल की मनोहारी झांकियों ने भक्तों को मंत्रमुग्ध किया तो वहीं जेके मंदिर में कन्हा के जयकारों की गूंज के साथ ही घर-घर सजी मनोहारी झांकियों वातावरण को कृष्ण भक्ति से सराबोर कर रही हैं। भक्त रात्रि 12 बजे का जग कर इंतजार कर रहे हैं। मंदिरों को सजाया गया है तो पुलिस थाने में भगवान श्रभ्कृष्ण की भक्ति में लीन हैं।

श्रीकृष्ण के 5251वां जन्मोत्सव
श्रीकृष्ण के 5251वें जन्मोत्सव को लेकर मंदिरों में भारी भीड़ जुटी हुई है। वहीं घरों में नंदलाल के आगमन को लेकर तैयारियां भक्तों ने पूरी कर ली हैं। कानपुर में सबसे बड़ा आयोजन जेके टैंपल और इस्कॉन मंदिर में किया जा रहा है। दोनों ही मंदिरों में हजारों की संख्या में भक्त मौजूद हैं। भगवान श्रीकृष्ण के जन्मोत्सव को लेकर कुछ ही समय शेष रह गया है। इस्कॉन मंदिर में भगवान श्रीकृष्ण का महाभिषेक भी शुरू हो गया है। वहीं भक्त भी अपने भगवान की एक झलक पाने के लिए आतुर हैं। कानपुर में द्वारिकाधीश मंदिर, गीता मंदिर, हजारी लाल मंदिर, शिवाला मंदिर और सनातन धर्म मंदिर में श्रद्धालु उत्साहपूर्वक जन्माष्टमी धूमधाम से मनाई जा रही है।

वृंदावन की थीम पर सजाई गई झांकियां
इस्कान मंदिर के परिसर में भगवान के बालरूप से अवतारी रूप तक की झांकियों के दर्शन भक्तों ने किए। वृंदावन की थीम पर सजाई गई झांकियों को देखकर भक्त मंत्रमुग्ध हो गए। झांकियों में भगवान के बालकृष्ण रूप में ताड़का, पूतना और शकटासुर वध के साथ माखन चोर, रक्षक कृष्णा रूप में गोवर्धन पर्वत उठाए प्रभु और शिष्य कृष्ण के रूप में गुरु से दीक्षा हासिल करने की झांकियों ने भक्तों को आकर्षित किया। वहीं, सखा के रूप में सुदामा लीला और प्रेमी के रूप में राधा और गोपियों की लीला की झांकियां के साथ ही कर्मयोगी, धर्मयोगी, वीर और अवतारी श्रीकृष्ण की लीलाओं वाली झांकियों हर भक्त आकर्षित करती रही।

इस्कान में वृंदावन जैसा नजारा
इस्कान मंदिर का परिसर नंदलाल के जन्मोत्सव पर मनोहारी झांकियों से वृंदावन जैसा प्रतीत हो रहा था। यहां सुबह से ही भक्तों का तांता लगा है। कन्हा का जन्म रात्रि 12 बजे बनाया जाएगा। इसके लिए भक्त मंदिर के बाहर नंद के घर आनंद भयो, बोले जय कन्हैया लाल की गीत गाकर पूरे परिसर को भक्तिमय किए हुए हैं। इस्कान में देश के कई शहरों के अलावा विदेश से भी भक्त आए हुए हैं।

प्रयाग नारायण शिवाला मंदिर में लग रहे जयकारे
दक्षिण भारतीय शैली के शिवाला स्थित प्राचीन मंदिर प्रयाग नारायण शिवाला मंदिर शुक्रवार को विधिवत पूजन अर्चन के साथ भगवान के विग्रह का अभिषेक किया गया। जन्माष्टमी आयोजन की शुरुआत घर पर भगवान लक्ष्मी नारायण सहित अन्य देवी-देवताओं के विग्रह का अभिषेक पूजन कर की गई। प्रयाग नारायण शिवाला मंदिर के आचार्य अश्विनी अनुराग की उपस्थिति में मंत्रोच्चारण के बीच मंदिर अध्यक्ष मुकुल नारायण मिश्र एवं प्रबंधक अभिनव नारायण तिवारी ने पंचामृत और विभिन्न द्रव्यों से भगवान का अभिषेक पूजन किया गया।

जेके मंदिर में भक्तों का लगा तांता
इस्कॉन और जेके मंदिर के मनोहारी दृश्य को देखने के लिए कोरोना काल में इंटरनेट मीडिया का प्रयोग बड़ी संख्या में किया गया था। इस बार भी इस्कान मंदिर, जेके मंदिर में जन्माष्टमी के उत्सव को देखने के लिए आनलाइन वीडियो कई भक्तों द्वारा बनाए जा रहे हैं। जेके मंदिर में राध-कृष्ण के दर्शन के लिए आए भक्तों ने कहा कि, दो साल के बाद हमलोग गिरधर गोपाल का जन्मोत्सव मना रहे हैं। भक्तों का कहना है कि, ये मंदिर ऐतिहासिक है और जो भी मन्नत मांगी जाती है उसे भगवान श्रीकृष्ण पूरी करते हैं।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities