बड़ी ख़बरें
अब सिल्वर स्क्रीन पर दिखाई देगी निरहुआ के असल जिंदगी के अलावा उनकी रियल लव स्टोरी की ‘एबीसीडी’, शादी में गाने-बजाने वाला कैसे बना भोजपुरी फिल्मों का सुपरस्टार के साथ राजनीति का सबसे बड़ा खिलाड़ीटीचर की पिटाई से छात्र की मौत के चलते उग्र भीड़ ने पुलिस पर पथराव के साथ जीप और वाहनों में लगाई आग, अखिलेश के बाद रावण की आहट से चप्पे-चप्पे पर फोर्स तैनातकुंवारे युवक हो जाएं सावधान आपके शहर में गैंग के साथ एंट्री कर चुकी है लुटेरी दुल्हन, शादी के छह दिन के बाद दूल्हे के घर से लाखों के जेवरात-नकदी लेकर प्रियंका चौहान हुई फरारअपने ही बेटे के बच्चे की मां बनने जा रही ये महिला, दादी के बजाए पोती या पौत्र कहेगा अम्मा, हैरान कर देगी MOTHER  एंड SON की 2022 वाली  LOVE STORYY आस्ट्रेलिया के खिलाफ धमाकेदार जीत के बाद भी कैप्टन रोहित शर्मा की टेंशन बरकरार, टी-20 वर्ल्ड कप से पहले हार्दिक पांड्या, भुवनेश्वर कुमार समेत ये क्रिकेटर टीम इंडिया से बाहरShardiya Navratri 2022 : अकबर और अंग्रेजों ने किया था मां ज्वालाजी की पवित्र ज्योतियां बुझाने का प्रयास, माता रानी के चमत्कार से मुगल शासक और ब्रिटिश कलेक्टर का चकनाचूर हो गया था घमंडबीजेपी नेता का बेटे वंश घर पर अदा करता था नमाज, जानिए कापी के हर पन्ने पर क्यों लिखता था अल्हा-हू-अकबर17 माह तक एक कमरे में पति की लाश के साथ रही पत्नी, बड़ी दिलचस्प है विमलेश और मिताली के मिलन की लव स्टोरी‘शर्मा जी’ ने महेंद्र सिंह धोनी के 15 साल पहले लिए गए एक फैसले का खोला राज, 22 गज की पिच पर चल गया माही का जादू और पाकिस्तान को हराकर भारत ने जीता पहला टी-20 वर्ल्ड कपआखिरकार यूपी में पकड़ी गई झारखंड-बिहार के रियल लाइफ वाली ‘बंटी-बबली’ की जोड़ी, फेरों के फंदे में फांसकर 35 अफसर व कारोबारियों से ठगे 1.16 करोड़ की नकदी

एक ऐसा क्रांतिकारी जो मां के चरणों में अंग्रेज सैनिकों की चढ़ाता था बलि, गिरफ्तारी के बाद जल्लादों ने 7 बार फांसी पर लटकाया, शहादत के बाद पेड़ से बहने लगी खून की धारा

गोरखपुर। भारत अपनी आजादी का 75वां अमृत महाउत्सव मना रहा है। 15 अगस्त को घर-घर तिरंगा फहराया जाएगा और जश्न-ए-आजादी को धूम-धाम के साथ भारतवासी बनाएंगे। अस्तित्व न्यूज अमृत महाउत्सव में आपको उन क्रांतिकारियों से हरदिन रूबरू कराता है, जिन्होंने अंग्रेजों से हिन्दुस्तान को आजाद कराने के लिए हंसते-हंसते प्राण न्योछावर कर दिए। इन्हीं में से एक थे चौरीचौरा के डुमरी गांव निवासी क्रांतिकारी बंधू सिंह। जिन्हें अंग्रेजों ने अलीनगर स्थित एक पेड़ पर फांसी देने का 6 बार प्रयास किया लेकिन हर बार फांसी का फंदा टूट जाता था। 7वीं बार मां जगदजननी का ध्यान कर फांसी के फंदे को चूमते हुए उन्होंने कहा, ’हे मां अब मुझे मुक्ति दो।’ फिर फंदा नहीं टूटा और महान क्रांतिकारी अमर हो गया। जैसे ही उनकी मौत हुई वैसे ही एक पेड़ से खून की धारा निकल पड़ी।

अंग्रेजों के खिलाफ मोर्चा खोला
मेरठ की क्रांति की आंच कानपुर से लेकर गोरखपुर पहुंच गई थे। गोरखपुर के डुमरी रियासत के बाबू बंधू सिंह ने अंग्रेजों के खिलाफ मोर्चा खोल रखा था। अंग्रेजों को सबक सिखाने के लिए गोर्रा नदी के जंगलों में बाबू बंधू सिंह रहा करते थे। नदी के तट पर तरकुल (ताड़) के पेड़ के नीचे पिंडियां स्थापित कर वह देवी की उपासना किया करते थे। देवीपुर की यह देवी बाबू बंधू सिंह की इष्ट देवी थी। जो उनके शहीद होने के बाद तरकुलहा देवी के नाम से प्रसिद्द है।

बंधू सिंह गुरिल्ला लड़ाई में माहिर
शहीद बंधू सिंह के परिजन बीजेपी नेता अजय सिंह ने बताया कि, जब बंधू सिंह बड़े हुए तो उनके दिल में भी अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ आग जलने लगी। बंधू सिंह गुरिल्ला लड़ाई में माहिर थे, इसलिए जब भी कोई अंग्रेज उस जंगल से गुजरता, बंधू सिंह उसकी गर्दन धड़ से अलग कर सिर मां शक्ति स्वरूपा पिंडी पर चढ़ा देते। जब कई सैनिक जंगल में जाकर नहीं लौटे तो अंग्रेज यहां समझते रहे कि सिपाही जंगल में जाकर लापता हो जा रहे हैं।

हाथ नहीं लगे बंधू सिंह
इतिहासकार बताते हैं कि, पहले तो अंग्रेज अफसर यह समझते रहे कि सैनिक जंगलों में जंगली जानवरों का शिकार हो रहे हैं। बाद में धीरे-धीरे उन्हें भी पता लग गया कि अंग्रेज सिपाही बंधू सिंह के हाथों बलि चढ़ाएं जा रहे हैं। ’अंग्रेजों ने बंधू सिंह की तलाश में जंगल में एक बड़ा तलाशी अभियान चला दिया। बहुत तलाश के बाद भी बंधू सिंह उनके हाथ नहीं आए।

इस तरह से पकड़े गए बंधू सिंह
इतिहासकार बताते हैं, बंधू सिंह को सरदार मजीठिया की मुखबिरी के चलते अंग्रेजों ने पकड़ लिया। कोर्ट में उन्हें पेश किया गया फिर गोरखपुर के अलीनगर चौराहे पर सरेआम उन्हें फांसी दी गई। मंदिर के पुजारी दिलीप त्रिपाठी ने कहा, बंधू को उधर फांसी का फंदा लगा और इधर तरकुल का पेड़ का सिरा टूट गया और खून की धारा काफी देर तक बहती रही। वहीं से इस देवी का नाम माता तरकुलहा के नाम से प्रसिद्द हो गया। मंदिर में भक्तों द्वारा सच्चे मन से मांगी गई हर मुराद पूरी होती है।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities