बड़ी ख़बरें
एक दुनिया का सबसे बड़ा ग्लोबल लीडर तो दूसरा देश का सबसे पॉपुलर पॉलिटिशियन, पर दोनों ‘आदिशक्ति’ के भक्त और 9 दिन बिना अन्न ‘दुर्गा’ की करते हैं उपासना, जानें पिछले 45 वर्षों की कठिन तपस्या के पीछे का रहस्यअब सिल्वर स्क्रीन पर दिखाई देगी निरहुआ के असल जिंदगी के अलावा उनकी रियल लव स्टोरी की ‘एबीसीडी’, शादी में गाने-बजाने वाला कैसे बना भोजपुरी फिल्मों का सुपरस्टार के साथ राजनीति का सबसे बड़ा खिलाड़ीटीचर की पिटाई से छात्र की मौत के चलते उग्र भीड़ ने पुलिस पर पथराव के साथ जीप और वाहनों में लगाई आग, अखिलेश के बाद रावण की आहट से चप्पे-चप्पे पर फोर्स तैनातकुंवारे युवक हो जाएं सावधान आपके शहर में गैंग के साथ एंट्री कर चुकी है लुटेरी दुल्हन, शादी के छह दिन के बाद दूल्हे के घर से लाखों के जेवरात-नकदी लेकर प्रियंका चौहान हुई फरारअपने ही बेटे के बच्चे की मां बनने जा रही ये महिला, दादी के बजाए पोती या पौत्र कहेगा अम्मा, हैरान कर देगी MOTHER  एंड SON की 2022 वाली  LOVE STORYY आस्ट्रेलिया के खिलाफ धमाकेदार जीत के बाद भी कैप्टन रोहित शर्मा की टेंशन बरकरार, टी-20 वर्ल्ड कप से पहले हार्दिक पांड्या, भुवनेश्वर कुमार समेत ये क्रिकेटर टीम इंडिया से बाहरShardiya Navratri 2022 : अकबर और अंग्रेजों ने किया था मां ज्वालाजी की पवित्र ज्योतियां बुझाने का प्रयास, माता रानी के चमत्कार से मुगल शासक और ब्रिटिश कलेक्टर का चकनाचूर हो गया था घमंडबीजेपी नेता का बेटे वंश घर पर अदा करता था नमाज, जानिए कापी के हर पन्ने पर क्यों लिखता था अल्हा-हू-अकबर17 माह तक एक कमरे में पति की लाश के साथ रही पत्नी, बड़ी दिलचस्प है विमलेश और मिताली के मिलन की लव स्टोरी‘शर्मा जी’ ने महेंद्र सिंह धोनी के 15 साल पहले लिए गए एक फैसले का खोला राज, 22 गज की पिच पर चल गया माही का जादू और पाकिस्तान को हराकर भारत ने जीता पहला टी-20 वर्ल्ड कप

Independence Day 2022 Story : गंगा के किनारे रहने वाले इन दो दोस्तों से थर-थर कांपते थे अंग्रेज, आजादी के मतवालों ने लूटपाट के बाद कोठी में लगा दी थी आग

अमरोहा। अंग्रेजों के खिलाफ आजादी को लेकर क्रांतिकारियों ने मेरठ से लेकर कानपुर में बिगुल फूंक दिया था। रणबांकुरे चुन-चुन कर ब्रिटिश फौज, पुलिस और अफसरों को मौत के घाट उतार रहे थे। तभी इसकी चिंगारी गंगा की गोद में बसे अमरोहा में पहुंच गई। यहां के तिगरी गांव निवासी दो दोस्त चंद्रदत्त त्यागी और उत्तम सिंह त्यागी ने गोरों पर हल्लाबोल दिया। ग्रामीणों का समूह बनाकर अंग्रेजों की कोठी पर हमला कर दिया। लूटपाट करने के बाद कोठी को आग के हवाले कर दिया। दोनों दोस्त पकड़े गए और कई साल जेल में रहे। सलाखों से बाहर आए तो भारत से ब्रिटिश हुकूमत का तख्ता पलट हो चुका था।

तिगरी गांव निवासी रमेश चंद्र त्यागी (88), जो चंद्रदत्त त्यागी के भतीजे हैं, ने बताया कि, उस समय हमारी उम्र लगभग 13 साल की रही होगी। चाचा चंद्रदत्त त्यागी और उनके दोस्त उत्तम सिंह त्यागी की अंग्रेजों को तलाश रहती थी। जब भी गांव में अंग्रेज आते तो सिर्फ इन दोनों को ही पूछते और कहते जहां भी मिले, तुरंत गिरफ्तार करें। ऐसे ही दो बार जेल भी गए। बताते हैं, चाचा और उत्तम सिंह त्यागी की दोस्ती के किस्से पूरे जनपद में नहीं, बल्कि यूपी में सुनाई दिया करते थे।

एक घटना का जिक्र करते हुए रमेश ने बताया कि, दोनों को अंग्रेजों ने एक घर के अंदर घेर लिया। चाचा ने तमंचे से फायरिंग शुरू कर दी और उत्तम सिंह को किसी से बाहर निकाल दिया। करीब दो घंटे तक अंग्रेजों से लड़ने के बाद चाचा भी भागने में कामयाब रहे। रमेश बताते हैं कि, एक बार चंदौसी से और दूसरी बार मंडी धनौरा के पत्थरकुटी मंदिर से अंग्रेजों ने दोनों को गिरफ्तार किया। लगभग तीन साल जेल में बिताए।

रमेश बताते हैं, जब भारत छोड़ो आंदोलन चल रहा था तो अंग्रेजों ने हौसला तोड़ने के लिए दोनों के घर पर तोड़फोड़ करते हुए सामान भी लूटा था। मगर, आजादी का जुनून जिंदा रहा। दोनों दोस्त एक साथ रहते थे, दिन-रात घर से बाहर दुबके रहते थे। ताकि अंग्रेजों के हाथ न लगे सके। इतना ही नहीं, एक बार दोनों ने अंग्रेज दरोगा और दो सिपाहियों के लाठी के दम पर बंदी बना लिया था। उनके हथियार छीन लिए और पेड़ पर बांधकर पिटाई की थी।

रमेश बताते हैं, गांव के लोगों को पता रहता था कि वह कहां छिपे हैं मगर, वह अंग्रेजों को नहीं बताते थे। ग्रामीण को पीटते थे मगर, फिर भी मुंह नहीं खोलते थे। बोले, अंग्रेजों ने चाचा को रोज 25 कोड़ों की सजा देने का आदेश किया था। इसके बाद देश के प्रति वफादारी कम नहीं हुई। आखिर में आजादी मिली तो आसपास के गांव के लोग तिगरी में आ गए और फिर जश्न मनाते हुए तिरंगा फहराया गया था।

ब्रिटिश शासन काल में अंग्रेजों की दमनकारी नीति से क्षेत्रीय लोग परेशान थे। क्षेत्र के गांव पीपली तगां में अंग्रेजों ने यहां आलीशान कोठी का निर्माण किया था। बड़े बुजुर्गों की मानें तो ब्रिटिश अधिकारी अक्सर यहां आकर रुकते थे। साथ ही उनकी कोर्ट भी यहां लगा करती थी। कोठी के आसपास से गुजरने वाले लोगों को अंग्रेजी अधिकारी जबरदस्ती रोककर उनके साथ अमानवीय व्यवहार किया करते थे। जिसको लेकर आजादी के मतवालों में प्रतिशोध की ज्वाला भड़क रही थी।

वर्ष 1942 में जब पूरे देश में अंग्रेज भारत छोड़ो आंदोलन शुरू किया गया तो आजादी के मतवालों ने मौका पाकर इस कोठी पर चढ़ाई कर इसे आग के हवाले कर दिया था। साथ ही कोठी में रखे कीमती सामान को लूट लिया था। इस कांड में दोनों दोस्तों ने अहम रोल निभाया था। इस मामले में ब्रिटिश अधिकारियों ने स्थानीय क्रांतिकारियों पर मुकदमे भी दर्ज कराए थे। हालांकि 1947 में देश को आजादी मिलने के बाद भारत सरकार ने इन सभी मुकदमों को वापस ले लिया था। एक बीघा भूमि में बनी इस ऐतिहासिक धरोहर की देखरेख वर्तमान में सिंचाई विभाग द्वारा की जा रही है।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities