बड़ी ख़बरें
जेम-टीटीपी के आतंकी को मिला था नूपुर को फिदायीन हमले से मारने का टॉस्क, सैफुल्ला ने इंटरनेट के जरिए वारदात को अंजाम देने की दी थी ट्रेनिंग, पढ़ें टेररिस्ट के कबूलनामें की ‘चार्जशीट’मध्य प्रदेश में नहीं रहेगा अनाथ शब्द, शिवराज सिंह ने तैयार किया खास प्लानजम्मू-कश्मीर की सरकार का आतंकियों के मददगारों पर बड़ा प्रहार, आतंकी बिट्टा कराटे की पत्नी समेत चार को नौकरी से किया बर्खास्त, पैसे की व्यवस्था के साथ वैज्ञानिक चलाते थे आतंक की ‘पाठशाला’होर्ल्डिंग्स से हटाया सीएम का चेहरा, तिरंगे की शान में सड़क पर उतरे योगी, यूपी में 4.5 करोड़ राष्ट्रीय ध्वज फहराने का लक्ष्यबांदा में नाव पलटने की घटना में 6 और शव मिले, अब तक 9 की मौतपहले फतवा जारी और अब लाइव प्रोग्राम में सलमान रुश्दी पर चाकू से किए कई वार14 साल के बाद माफिया के गढ़ में दाखिल हुआ डॉन, भय से खौफजदा मुख्तार और बीकेडी ‘पहलवान’पुलिस के पास होते हैं ‘आन मिलो सजना’ ‘पैट्रोल मार’ ‘गुल्ली-डंडा’ और ‘हेलिकॉप्टर मार’ हथियार, इनका नाम सुनते ही लॉकप में तोते की तरह बोलने लगते हैं चोर-लुटेरे और खूंखार बदमाशखेत के नीचे लाश और ऊपर लहलहा रही थी बाजरे की फसल, पुलिस ने बेटों की खोली कुंडली तो जमीन से बाहर निकला बुजर्ग का कंकाल, दिल दहला देगी हड़ौली गांव की ये खौफनाक वारदातबीजेपी के चाणक्य को देश की इस पॉवरफुल महिला नेता ने सियासी अखाड़े में दी मात, पीएम मोदी से नीतीश कुमार की दोस्ती तुड़वा बिहार में बनवा दी विपक्ष की सरकार

हर दिन चारों पहर की आरती के बाद बाबा विश्वनाथ करते हैं बनारसी पान का भोग, 150 साल से जानिए क्यों भुल्लन पानवाला इस परंपरा का करता आ रहा निर्वहन

वाराणसी। सावन का महिना चल रहा है। देश के सभी शिवालयों में बम-बम भोले के जयकारों की गूंज चारोंतरफ सुनाई दे रही है। भक्त, भगवान शंकर को जल, बेलपत्र और भांग चढ़ाकर प्रसन्न कर मन्नत मांग रहे हैं तो वहीं काशी में श्रृद्धालु अपने श्रद्धाभाव के हिसाब से उन्हें प्रसाद चढ़ाते हैं।यही कारण है कि दुनिया भर से भक्त काशी में खींचे चले आते हैं। बाबा विश्वनाथ के नगरी में उनके भक्त भी उनकी तरह ही अड़ भंगी व मदमस्त होते हैं। इस शहर में भक्तों की एक अनोखी श्रृंखला है, जहां एक से बढ़कर एक भक्त बाबा के लिए समर्पित नजर आते हैं। इसी कड़ी में एक परिवार पिछले 150 वर्षों से बाबा को भोग में बनारसी पान चढ़ता आ रहा है।

काशी विश्वनाथ मंदिर के करीब ढूंढ़ी राज गणेश मंदिर गली में भुल्लन पान की दुकान है। हर दिन बाबा के भोग प्रसाद के लिए एकदम स्पेशल पान तैयार किया जाता है। पान का बीड़ा भी बेहद खास होता है। सिंगाड़े स्वरूप में बंधे इस पान को भोर की मंगला आरती से लेकर शाम की शयन आरती के बाद बाबा को चढ़ाया जाता है। बीते 150 साल से भुल्लन पान वाले इस परंपरा का निर्वहन कर रहे हैं। काशी में पान खाने की परंपरा धर्म से जुड़ी है। बनारसी पान को प्रसाद के रूप में माथे लगाकर ग्रहण करते हैं।

भुल्लन पान वाले आरती की थाली में बाबा को पान चढ़ाते हैं। इसके बाद पान का भोग लगाया जाता है। दुकान के मालिक भूल्लन पटेल ने बताया कि तीन पीढ़ी से भोग के लिए बाबा को पान हमारे यहां से जाता है। शाम की आरती में भी बाबा विश्वनाथ को हमारे यहां के ही पान का भोग लगाया जाता है। बाबा को पान चढ़ाना हमारी उनके प्रति श्रद्धा का भाव है। बाबा के आशीर्वाद से ही हमारा परिवार चलता है। बाबा को चढ़ाए जाने वाले पान का आकार बिल्कुल अलग होता है। इसका सिंघाड़ा जैसा आकार होता है।

पटेल बताते हैं, बाबा के पान को शुद्धता के साथ बनाया जाता है। इसमें चूना, कत्था, ताम्बूल और लौंग लगाया जाता है। इसको हमारे दादा (भूल्लन के) ने शुरू किया था। अब यह परम्परा बन गई है। हमारी तीन पीढ़ियों से यह काम हो रहा है। बाबा की पांच प्रहर में आरती होती है, लेकिन मंगला आरती और सप्त ऋषि आरती में हमारे यहां के ही पान का भोग लगाया जाता है। बाबा के इस भोग का प्रसाद लेने के लिए बहुत लोग आते रहते हैं। बताते हैं कि, बाबा के इस प्रसाद को लेने के लिए लंबी-लंबी लाइन लगती है।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities