ब्रेकिंग
सुप्रीम कोर्ट के इस जज ने नूपुर शर्मा को सुनाई खरी-खरी, याचिका खरिज कर कहा टीवी में जाकर देश से मांगे माफी‘चायवाले’ ने पवार के ‘पॉवर’ और ठाकरे के ‘इमोशन’ का निकाला तोड़, ‘ऑटो चालक’ को इस वजह से बनाया महाराष्ट्र का चीफ मिनीस्टरउदयपुर घटना को लेकर कानपुर के मुस्लिम संगठन के साथ अन्य लोगों में उबाल, कन्हैयालाल के हत्यारों को जल्द से जल्द फांसी की सजा दिलवाए ‘सरकार’महाराष्ट्र में फिर से बड़ा उलटफेर, शिंदे के साथ फडणवीस लेंगे शपथBIG BREAKING – देवेंद्र फडणवीस नहीं, एकनाथ शिंदे होंगे महाराष्ट्र के अगले सीएम, शाम को अकेले लेंगे शपथशिंदे बने मराठा राजनीति के ‘बाहुबली’ जानिए देवेंद्र भी ‘समंदर’ से क्यों कम नहींPanchang: आज का पंचांग 30 जून 2022, जानें शुभ मुहूर्त और राहुकाल का समयMonsoon Update: गाजियाबाद और आसपास के जिलों को करना होगा बारिश का इंतजार, पूर्वी यूपी में हल्की बारिश शुरूउदयपुर हिंसा का सायां यूपी तक पहुंचा, यूपी के मेरठ जोन में अलर्ट, सोशल मीडिया पर खाास नजरCorona Update: कोरोना ने बढ़ाई देश की टेंशन, एक ही दिन में बढ़ 25 फीसदी मरीज बढ़े, 30 लोगों की मौत

शांति दूत ही निकला शैतान और अमन के नाम पर आंखों में धूल झोंकता रहा ‘पंप’, ‘मजहबी गुरिल्ला वार’ की मास्टमाइंड इस तरह से देता था ट्रेनिंग

प्रयागराज। जुमे की नमाज के बाद प्रयागराज में हिंसा भड़क गई। उपद्रवियों ने पुलिस पर पथराव, फायरिंग और बम से हमला कर कईयों को घायल कर दिया। पुलिस ने पलटवार करते हुए उपद्रवियों को खदेड़ते हुए तीन घंटे के बाद हालात पर काबू पाया और 70 से ज्यादा नामजद और 5400 अज्ञात पर मुकदमा दर्ज करते हुए हिंसा के मास्टरमाइंड जावेद अहमद उर्फ जावेद पंप को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ के दौरान आरोपी ने कई राज उगले हैं। उसकी बेटी पर भी पुलिस की नजर है। शातिर, खुद को शांतिदूत बताकर पुलिस के साथ बैठक करता। भाईचारे की बातें करता, वहीं सोशल मीडिया के जरिए न्यायपालिका और सरकार के खिलाफ लोगों को भड़काया करता।

अटाला इलाके में भड़की हिंसा
जुमे की नमाज के बाद अटाला इलाके में जमकर हिंसा हुई। पथराव, आगजनी, फायरिंग कर शहर को लहूलुहान कर दिया गया। पुलिस ने मास्टरमाइंड समेत 70 से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार कर लिया। जबकि 54 सौ अज्ञात पर मुकदमा दर्ज किया है।उपद्रवियों की तलाश में पुलिस और एसओजी की अलग-अलग टीम ताबड़तोड़ छापेमारी कर रही है। रात भर गिरफ्तारी का सिलसिला चल रहा है। पुलिस का कहना है कि सबसे ज्यादा हिंसक प्रदर्शन खुल्दाबाद और करेली थाना क्षेत्र में हुआ था। ऐसे में करेली थाने में एक व खुल्दाबाद थाने में दो मुकदमे लिखे गए हैं। अभियुक्तों पर बवाल, आगजनी, तोड़फोड़, सरकारी कार्य में बाधा पहुंचाने सहित अन्य धाराएं लगाई गई हैं।

पंप के दोहरे चरित्र को उजागर कर दिया
पुलिस अधिकारियों का कहना का अटाला में हुए हिंसक प्रदर्शन ने जावेद पंप के दोहरे चरित्र को उजागर कर दिया। वह पुलिस और प्रशासन के साथ शांति की बात करता था तो दूसरी ओर अमन में खलल पैदा करने वालों का समर्थन करता था। इतना ही नहीं, वह समाज में खुद की एक अलग छवि पेश करते हुए शांति-व्यवस्था को कायम रखने का ढोंग रचता था। विभिन्न अवसरों पर जब भी पीस कमेटी, सौहार्द को बेहतर बनाने और धर्मगुरुओं की बैठक पुलिस-प्रशासन की ओर से आयोजित होती थी, तब भी वह शरीक होता था। फिर पुलिस-प्रशासन को पूरा सहयोग देने और शांति बनाए रखने में अपनी अच्छी भूमिका अदा करने की हिमायत करता था।

पुलिस ने जावेद को हिंसा का मुख्य सरगना बताया
शुक्रवार को जुमे की नमाज के बाद हुई घटना में उसकी भूमिका नजर नहीं आई। अलबत्ता बवाल के लिए पहले से रची गई साजिश और नौजवानों को भड़काने जैसे कई काम किए, जिसकी वजह से पुलिस ने उसे मामले का मुख्य सरगना करार दिया है। देश की न्यायपालिका पर विश्वास नहीं है। विश्वास किया तो अयोध्या में राम मंदिर बन गया। सरकार मुसलमानों के साथ ज्यादती कर रही है। उन्हें सुविधाएं नहीं दे रही है।’ बवाल से कई दिन पहले फेसबुक पर कुछ ऐसी ही पोस्ट जावेद अहमद उर्फ जावेद पंप ने की थी। जावेद अहमद उर्फ जावेद पंप ने इंटरनेट मीडियो के अलग-अलग प्लेटफार्म पर भी विशेष समुदाय के लोगों को भड़काने का काम किया और उपद्रवियों के साथ बवाल की साजिश रची। ऐसा पुलिस का आरोप है।

कौन है जावेद उर्फ पंप
जावेद उर्फ पंप खुद को समाजसेवी बताता है। कुछ दिन पहले इसने ओवैसी की पार्टी की सदस्यता ली थी। सूत्रों की मानें तो पंप राजनीति की आंड़ में बड़ी साजिश रच रहा था। इसके संबंध बाहुबली अतीक अहमद से भी बताए जा रहे हैं। एसएसपी के मुताबिक, जावेद अहमद की बेटी का भी हिंसा मामले में हाथ है। वह दिल्ली में पढ़ती है। जरूरत पड़ी तो हम दिल्ली पुलिस से संपर्क करेंगे और एक पुलिस टीम दिल्ली भेजेंगे। जबकि इसकी दूसरी बेटी प्रयागराज में रहती है और पुलिस उसकी भी भूमिका की जांच कर रही है। स्थानीय लोगों का कहना है कि जावेद रात को बैठक किया करता था। वह बच्चों को गुमराह किया करता था।

चलेगा बुलडोजर लगेगा एनएसए
बवाल करने वालों के खिलाफ पुलिस एनएसए के तहत कार्रवाई करेगी। साथ ही अटाला में अवैध रूप से निर्माण के खिलाफ बुलडोजर चलाया जाएगा। एडीजी का कहना है कि शहर का माहौल खराब करने वाले असामाजिक तत्व हैं। ऐसे लोगों के खिलाफ एनएसए सहित अन्य कठोर कार्रवाई की जाएगी। साजिश रचने वालों को भी नहीं बख्शा जाएगा। एडीजी का मानना है कि शहर में सुनियोजित साजिश के तहत जुमे की नमाज के बाद हिंसा भड़काया गया। इससे पहले एडीजी प्रेमप्रकाश ने बताया था कि हिंसा और बवाल के पीछे वामपंथी संगठनों, पीएफआई, आइसा और सीएए व एनआरसी आंदोलन को सपोर्ट कर रहे लोगों का हाथ है।

बच्चों को किया गया आगे
एडीजी के मुताबिक गलियों से निकलकर पुलिस के जवानों पर गोरिल्ला वार किया जा रहा था। बच्चों को आगे करके पत्थरबाजी कराई जा रही थी, जिसके चलते पुलिस ने बड़े ही संयम से काम लिया और सिर्फ बड़े लोगों को ही डंडा फटकार कर भगाने का काम किया गया। शुक्रवार को हुई हिंसा के बीच एडीजी खुद लाठी लेकर भीड़ के बीच घुस गए थे। एडीजी की कार पर उपद्रवियों ने हमला किया था। इस दौरान एडीजी का गनर गंभीर रूप से घायल हो गया था।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities